खबरे सबसे तेज
Weather भादो महीने में झमाझम बारिश

मध्यप्रदेश में सावन माह में बारिश नहीं हुई पर मौसम विभाग के अनुसार भादो माह में झमाझम बारिश होने वाली है। मध्यप्रदेश के कई शहर में मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। छत्तीसगढ़ में भी आने वाले दिनों में बारिश होने की संभावना है। बारिश रुक-रुक कर हो सकती है। जिससे गर्मी और उमस से लोगों को राहत मिलेगी। 


मध्यप्रदेश के बड़े शहरों का तापमान

भोपाल का अधिकतम तापमान 29.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, इंदौर का अधिकतम तापमान 28.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जबलपुर का अधिकतम तापमान 32.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, ग्वालियर का अधिकतम तापमान 35.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।


छत्तीसगढ़ के बड़े शहरों का तापमान

रायपुर में अधिकतम तापमान 31.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, बिलासपुर का अधिकतम 31.0 तापमान डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जगदलपुर का अधिकतम तापमान 26.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, अंबिकापुर का अधिकतम तापमान 30.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।

और भी..

मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें

छत्तीसगढ़ की बड़ी खबरें

वर्गीकृत फोटोन्यूज़
Today's Issue

तीन तलाक को जैसे ही सुप्रीम कोर्ट ने असंवैधानिक करार दिया, वैसे ही भारत में मुस्लिम महिलाओं का एक नया दौर शुरु हो गया। आजाद तो हमारे साथ पाकिस्तान भी हुआ था, लेकिन उसे 1956 में ही ट्रिपल तलाक से मुक्ति मिल गई, हमें 70 साल लग गए।


एक हजार साल पुरानी इस प्रथा पर 5 जजों की बेंच ने 3:2 की मेजॉरिटी से फैसला दिया। कोर्ट ने इसे असंवैधानिक बताया। कोर्ट ने अपने फैसले में ये भी कहा कि केंद्र सरकार 6 महीने के अंदर इस पर कानून बनाए।


इस फैसले को PM नरेंद्र मोदी ने ऐतिहासिक बताया। ट्वीट कर मोदी ने कहा कि ये मुस्लिम महिलाओं को समानता देता है। वहीं कांग्रेस ने भी इस पर अपना स्टैंड रखा।


हालांकि PM नरेंद्र मोदी ने कहा है कि इस मसले पर कानून लाने की जरुरत नहीं है। बोर्ड अपने कानून के हिसाब से चलता है। बोर्ड अब 10 सितंबर को भोपाल में बैठक कर आगे की रणनीति तय करेगा। वैसे ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम महिलाएं भी बंटी हुई दिखी हैं।


जाहिर है इस मसले को केयरफुली हैंडल करना होगा। सरकार को ऐसा कानून बनाना होगा। जिससे ये महसूस हो सके कि मुस्लिम महिलाओं का वाकई नया दौर शुरु हो गया। वैसे तीन तलाक पर मोदी सरकार के स्टैंड की तारीफ की जानी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद से इस सरकार को इस मुद्दे पर लीड मिल गई है। वैसे भी सरकार के पैरोकार तो दावा करते है कि ये सरकार साहसिक फैसले करने वाली सरकार है। अगर नोटबंदी और सर्जिकल के फैसले को देखें, तो ये भी बहुत रिस्की ही थे। लेकिन मोदी सरकार इस पर आगे बढ़ी।



ख़बर का वीडियो देखने के लिए क्लिक करें


और भी..
आज का सवाल

नतीजा            पिछला सवाल

क्या परीक्षाओं में सिर्फ अच्छे अंक लाना ही सफलता की कुंजी है?


         

शेयर बाजार
Share Market BSE

Share Market NSE
मध्य प्रदेश
खबरें शहरो से
छत्तीसगढ़

Follow Us

       
विज्ञापन के लिए संपर्क करे
x