खबरे सबसे तेज
Weather ठंड बड़ी, कोहरे ने बढ़ाई मुश्किल

पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश का मौसम साफ रहा। बात करें न्यूनतम तापमान की तो सभी संभागों को जिलों में खास बदलाव नहीं हुआ। इसके अलावा सिर्फ होशंगाबाद के जिलों में सामान्य से कम तापमान दर्ज हुआ। साथ ही प्रदेश का सबसे कम तापमान 07 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो प्रदेश के दमोह और बैतूल में दर्ज हुआ।


मध्यप्रदेश का तापमान


भोपाल का न्यूनतम तापमान 10.6 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का न्यूनतम तापमान 11.0 डिग्री सेल्सियस, जबलपुर का न्यूनतम तापमान 10.8 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का न्यूनतम तापमान 11.6 डिग्री सेल्सियस रहा।


छत्तीसगढ़ का तापमान


रायपुर में न्यूनतम तापमान 16.6 डिग्री सेल्सियस, बिलासपुर का न्यूनतम तापमान 12.5 डिग्री सेल्सियस, जगदलपुर का न्यूनतम तापमान 10.6 डिग्री सेल्सियस, अंबिकापुर का न्यूनतम तापमान 9.5 डिग्री सेल्सियस रहा।

और भी..
Today's Issue

नाराज़गी कब तलक ?

मध्य प्रदेश में IAS अधिकारियों की आपसी तकरार और नाराजगी इन दिनों लगातार सुर्खियों में है। हालिया विवाद है, पंचायत विभाग के ACS राधेश्याम जुलानिया और सचिव रमेश थेटे के बीच की तीखी तकरार। अपने कामकाज और अधिकार में कटौती से रमेश थेटे इस कदर खफा हैं कि मंगलवार को पुलिस की शरण में पहुंच गए। अजाक थाने पहुंचे थेटे ने एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज करवाने के लिए आवेदन दिया। उधर एक और आईएएस अधिकारी शशि कर्णावत भी अपने अधिकारों में कटौती की मांग को लेकर धरने पर बैठ गई हैं। कर्णावत ने अन्न-जल भी त्याग दिया है। डॉ. भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर भोपाल में दलित आदिवासी वंचित फोरम पर दोनों ही अधिकारियों ने फिर अपनी पीड़ा ज़ाहिर की। पिछले साथ भी इसी मंच पर दोनों ने अपनी तकलीफें साझा की थीं।


प्रदेश भर से अपने दलित-आदिवासी समर्थकों के बीच भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों की बेचारगी क्या इशारा करती है। चाहे थेटे हों या कर्णावत, लंबे समय से दोनों खुद को प्रताड़ित करने और भेदभाव का आरोप लगाते रहे हैं। एक बार फिर ये विवाद जगज़ाहिर है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में थेटे के उनके सीनियर जुलानिया से जुड़े विवाद पर महकमे के मंत्री भी कह चुके हैं वो विवाद सुलझाने की पूरी कोशिश करेंगे।


एक तरफ सरकार सुशासन और विभागों में कसावट को लेकर गंभीर है, वहीं दूसरी ओर सीनियर अधिकारियों के विवाद क्या असर छोड़ते हैं ? ये मनमुटाव, आपसी गिले-शिकवे और उपेक्षा का भाव क्या गवर्नेंस पर असर नहीं डालते ?


https://www.youtube.com/watch?v=z0DVQF0T-Rs

और भी..
आज का सवाल

नतीजा            पिछला सवाल

क्या आप मोदी सरकार के 500 और 1000 के नोट बदलने के फैसले को सही मानते हैं ?


         

शेयर बाजार
Share Market BSE

Share Market NSE
मध्य प्रदेश
खबरें शहरो से
छत्तीसगढ़

Follow Us

       
विज्ञापन के लिए संपर्क करे